IND Vs AUS: विराट कोहली की टीम अगर दूसरा वनडे भी हार जाती है तो ऑस्ट्रेलिया तीन मैचों की वनडे सीरीज अपने नाम करने में कामयाब हो जाएगी.

मुंबई: मुंबई में खेले गए पहले वनडे में मिली अप्रत्याशित 10 विकेट से हार के बाद भारतीय टीम के लिए चुनौतियां बढ़ गई है. आस्ट्रेलिया ने वानखेड़े में जिस तरह का प्रदर्शन किया था उसने एक तरह से मेजबान टीम की कई कमियों को उजागर किया था और अब विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम शुक्रवार को खेले जाने वाले दूसरे वनडे में चुनौतीपूर्ण वापसी की कोशिश में होगी. पहले मैच के बाद कोहली ने भी माना था कि यह आस्ट्रेलियाई टीम बेहद मजबूत है और इसके खिलाफ वापसी करना कठिन चुनौती होगा. अगर भारतीय टीम दूसरा वनडे जीतने में कामयाब नहीं हो पाती है तो ऑस्ट्रेलियाई टीम सीरीज पर कब्जा कर लेगी.

कोहली का कहना कि यह आस्ट्रेलियाई टीम बेहद मजबूत है इस बात को पूरा क्रिकेट जगत वानखेड़े स्टेडियम में देख चुका है. आस्ट्रेलिया ने न तो भारत को बड़ा स्कोर खड़ा करने दिया और इससे भी बुरा उसे एक भी विकेट नहीं लेने दिया. जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी जैसे गेंदबाजों के रहते डेविड वार्नर और एरॉन फिंच की सलामी जोड़ी आसानी से रन बनाती रही और भारतीय गेंदबाजों को विकेट के लिए तरसाती रही.

राजकोट में कोहली के सामने हालांकि सबसे बड़ी चुनौती बल्लेबाजी क्रम है. सही मायनों में देखा जाए तो यह नई परेशानी नहीं है विश्व कप के पहले ही भारत के मध्य क्रम और निचले क्रम की कलई कई बार खुलती रही है. मुंबई वनडे उस संख्या में इजाफा था जिसने बता दिया था कि भारतीय मध्य क्रम और निचले क्रम में शीर्ष गेंदबाजों से निपटने का दम अभी तक नहीं आया है.

READ:  धोखेबाज चीन जासूसी भी कर रहा : मोदी, कोविंद और सोनिया समेत भारत के 10 हजार बड़े लोगों और संस्थाओं पर चीन की नजर, वहां की सरकार से जुड़ी डेटा कंपनी हर छोटी-बड़ी सूचना जुटा रही

बल्लेबाजी क्रम कोहली के लिए बड़ी चुनौती

इसके अलावा शीर्ष क्रम में बल्लेबाजों के स्थानों को लेकर भी माथापच्ची होनी है. रोहित शर्मा, शिखर धवन और लोकेश राहुल के रूप में तीन सलामी बल्लेबाजों के रहते हुए कौन कहां खेलेगा यह सिरदर्द बना है. मुंबई में रोहित और धवन ने ओपनिंग की थी तो राहुल नंबर-3 खेले थे. कोहली को इस कारण चौथे नंबर पर आना पड़ा था.

कोहली के इस नंबर पर आने की कई पूर्व खिलाड़ियों ने आलोचना की थी और यह तक कहा था कि कोहली को नंबर-3 पर ही खेलना चाहिए. राजकोट में बहुत मुमकिन है कि कोहली अपने पुराने स्थान पर खेलें. अब देखना यह है कि सलामी बल्लेबाजी कौन करता है. संभावना है कि रोहित और धवन सलामी जोड़ी के रूप में रहेंगे और राहुल नंबर-4 पर खेलें. राहुल का खेलना तय है इसका एक कारण यह है कि उन्हें दूसरे मैच में बतौर स्पेशलिस्ट विकेटकीपर के तौर पर खेलाया जाएगा क्योंकि ऋषभ पंत चोट के कारण दूसरे मैच में नहीं खेलेंगे. पहले मैच में उन्हें सिर में चोट लगी थी और इसी कारण वह पहले मैच में फील्डिंग करने नहीं उतरे थे. वानखेड़े में भी राहुल ने विकेटकीपिंग की थी. अब देखना होगा कि पंत के स्थान पर टीम में कौन आता है.

कोहली किसी बल्लेबाज को अंतिम-11 में लाते हैं या हरफनमौला खिलाड़ी शिवम दुबे को मौका देते हैं. कोहली अगर दुबे को मौका दें तो हैरानी वाली बात नहीं होगी क्योंकि इससे उन्हें गेंदबाजी में भी विकल्प मिलेगा. कुल मिलाकर दूसरे मैच से पहले टीम प्रबंधन के सामने बल्लेबाजी क्रम को व्यवस्थित करने की चुनौती है. और यही हाल गेंदबाजी का भी है. बुमराह और शामी बेअसर रहे थे, लेकिन ऐसा बहुत कम होता है कि यह दोनों प्रभाव नहीं छोड़ पाए. हां स्पिन विभाग में कुछ बदलाव देखने को मिल सकते हैं. युजवेंद्र चहल के अंतिम-11 में आने की संभावनाओं से भी इनकार नहीं किया जा सकता.

READ:  SSC paper leak | दहावीचा पेपर पहिल्याच दिवशी फुटला

शानदार फॉर्म में है ऑस्ट्रेलिया

वहीं, आस्ट्रेलिया पहले मैच में मिली जीत के बाद आत्मविश्वास से लबरेज होगी लेकिन वो जानती है कि भारत जख्मी शेर है जो वापसी को बेताब है. कोहली की आग से दुनिया वाकिफ है और घर में 10 विकेट से हार कोहली को बर्दाश्त नहीं है. आस्ट्रेलियाई कप्तान एरॉन फिंच ने पहले मैच के बाद कहा था कि भारत अब और खतरनाक होकर वापसी की कोशिश करेगा.

आस्ट्रेलियाई लिहाज से उसकी गेंदबाजी सही जा रही है. पहले मैच में वार्नर और फिंच के कारण बाकी बल्लेबाजों को मौका नहीं मिला था. स्टीव स्मिथ कितने खतरनाक हैं यह कोहली एंड कंपनी जानती है. मार्नस लाबुशैन अभी तक वनडे नहीं खेले हैं लेकिन वह फॉर्म में है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here