महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जमकर टूट रहा है. गुरुवार को राज्य में 43 हजार 183 नए केस सामने आए. मुंबई की बात करें तो हर रोज 7 से 8 हजार नए पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं.

महाराष्ट्र में कोरोना का संकट दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है. खासकर मुंबई में सक्रिय संक्रमित मरीजों की संख्या चिंता बढ़ाने वाली है. मार्च में करीब 45 हजार से अधिक सक्रिय कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए. फरवरी महीने से पहले स्थिति नियंत्रण में थी. पिछले साल दिसंबर के आखिर तक ऐसा माना जा रहा था कि कोरोना पर नियंत्रण पाने में राज्य सरकार और मुंबई महापालिका सफल हो गई है. लेकिन फिर लोग लापरवाह होते गए. मास्क के इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के पालन में कोताही बरती जाने लगी.

अंजाम यह हुआ कि फरवरी महीने में एक बार फिर कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ा और मार्च महीने तक तो स्थिति एकदम से बिगड़ने लगी. पिछले एक महीने में कुल एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़ कर 55 हजार से ज्यादा हो गई है और इस संख्या ने राज्य सरकार और मुंबई महापालिका के सामने एक गंभीर चुनौती पेश कर दी है.

एक्टिव केसों में तेजी से हो रही बढ़ोतरी

महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जम कर टूट रहा है. गुरुवार को राज्य में 43 हजार 183 नए केस सामने आए. मुंबई की बात करें तो हर रोज 7 से 8 हजार नए पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं. इसी तरह एक्टिव कोरोना पॉजिटिव केस में भी तेजी से बढोत्तरी होती हुई दिखाई दे रही है.

READ:  फडणवीस की मेकअप वाली फोटो वायरल, बीजेपी ने शिवसेना को भेजा नोटिस

पिछले महीने मुंबई में 1 मार्च को जहां 9 हजार 690 एक्टिव केस थे, वहीं 1 अप्रैल तक यह संख्या बढ़ कर 55 हजार 5 तक पहुंच गई है. इस वजह से मुंबई महानगरपालिका बार-बार नागरिकों से अपील कर रही है कि वे कोरोना के नियमों का सख्ती से पालन करें ताकि लॉकडाऊन की नौबत ना आए.

मुंबई में सक्रिय संक्रमण से जुड़ी स्थिति

1 मार्च- 9690
15 मार्च- 14582
25 मार्च- 33961
1 अप्रैल- 55005

मुंबई में कोरोना की वर्तमान स्थिति

मुंबई में गुरुवार को 8 हजार 646 नए पॉजिटिव केस सामने आए. 5 हजार 31 कोरोना रोगियों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया. गुरुवार को दिन भर में 18 लोगों की कोरोना से मौत हो गई. इनमें से 14 लोग कोरोना के अलावा अन्य बीमारियों से भी ग्रसित थे. मरने वालों में 12 पुरुष और 6 महिलाएं शामिल हैं. फिलहाल मुंबई में 55 हजार 5 मरीजों का इलाज चल रहा है.

मुंबई में ठीक होने वाले मरीजों की दर 84 प्रतिशत तक पहुंची है. चिंता की बात यह है कि कोरोना संक्रमण 49 दिनों के अंतराल में दुगुना हो गया है. 25 मार्च से 31 मार्च के बीच कोरोना वृद्धि की दर देखें तो यह 1.38 फीसदी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here