पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Samman Nidhi Scheme) के तहत केंद्र सरकार की तरफ से किसानों को सालाना 6,000 रुपये दिए जाते हैं. इस योजना की सातवीं किस्त सरकार ने जारी कर दी है.

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Scheme) की सातवीं किस्त केंद्र सरकार द्वारा जारी कर दी गई है. इस योजना के तहत हर साल तीन किस्तों में किसानों के खातों में 6000 रुपये भेज जाते हैं. लेकिन इसी बीच प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM Kisan Yojna) योजना में फर्जीवाड़े की घटानाएं सामने आ रही हैं. कई जगह से अपात्र के लोगों के अकाउंट में पैसे पहुंचने की खबरें आती हैं. पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Scheme) के पैसे उनके अकाउंट में भी पहुंच रहे हैं, जिन्होंने कभी खुद को रजिस्टर्ड ही नहीं कराया.

मनी कंट्रोल में छपी एक खबर के मुताबिक एक ऐसी ही खबर सामने आई है, जिसमें UIDAI और TRAI के पूर्व चीफ राम सेवक शर्मा (Ram Sewak Sharma) के SBI अकाउंट में साल में तीन बार पीएम किसान सम्मान निधि के तहत 6,000 रुपये भेजे गए हैं, जबकि शर्मा ने इस स्कीम के लिए कभी रजिस्ट्रेशन भी नहीं कराया था. शर्मा ने कहा कि इस स्कीम में उन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया. फिर भी उनका रजिस्ट्रेशन हो गया. वह कहते हैं, ‘इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकार की है. राज्य सरकार ने बिना पहचान किए कैसे वेरिफिकेशन कर दिया.’

8 जनवरी 2020 को खुला था अकाउंट
शर्मा ने बताया कि पीएम किसान सम्मान निधि के तहत मेरे बैंक अकाउंट में 2,000 रुपये की राशि 3 किस्तों में भेजी गई है. शर्मा के नाम से यह अकाउंट 8 जनवरी 2020 को खोला गया था और करीब नौ महीने एक्टिव रहा था. 24 सितंबर को यह डीएक्टिवेट हो गया. शर्मा ने आगे बताया कि वो उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले में एक किसान के तौर पर रजिस्टर्ड थे. उनका SBI अकाउंट जिसमें पैसे भेजे गए थे वह एक हिंदू अविभाजित परिवार का अकाउंट है. जिसका उपयोग कृषि उपज और व्यय की बिक्री आय प्राप्त करने के लिए किया जाता था.

READ:  Twitter ने बदल दिया Retweet करने का तरीका, जानें क्या हुआ बदलाव

शर्मा ने बताया खुद को अयोग्य
शर्मा को जब इस बारे में पता चला तो उन्होंने बैंक को सूचित किया. इसका अभी तक कोई जवाब नहीं आया है. लेकिन शर्मा के नाम से बने अकाउंट को डिएक्टिवेट कर दिया गया है. शर्मा ने कहा कि वो पीएम किसान सम्मान निधि के रकम पाने के लिए अयोग्य हैं. क्योंकि वो इनकम टैक्स भरते हैं.

इस तरह हो रहा फर्जीवाड़ा
बता दें कि एक्टर भगवान हनुमान, ISI जासूस महबूब अख्तर और एक्टर रितेश देशमुख के नाम से पीएम किसान योजना अकाउंट बनाया गया है. इनके आधार कार्ड सार्वजनिक रूप से मौजूद हैं. हुनमान के अकाउंट में 6,000, महबूब अख्तर के अकाउंट में 4,000 रुपये और रितेश देशमुख के अकाउंट में 2000 रुपये भेजे गए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here