दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) और मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के बीच आइपीएल के इतिहास में अब तक 26 मुकाबले खेले गए हैं. इनमें से मुंबई ने 14 और दिल्ली ने 12 मैच जीते हैं.

नई दिल्ली. बड़े मैचों में खेलने का अपार अनुभव रखने वाली मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) की मजबूत टीम और इंडियन प्रीमियर लीग (IPL)) के वर्तमान सत्र में शानदार प्रदर्शन करने वाली दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के बीच गुरुवार को पहले क्वालीफायर में कांटे का मुकाबला होने की संभावना है. इस मैच को जो भी टीम जीतेगी वह सीधे 10 नवंबर को होने वाले फाइनल में जगह बना लेगी, जबकि हारने वाली टीम को दूसरे क्वालीफायर के रूप में फाइनल में पहुंचने का एक और मौका मिलेगा.

मुंबई का पलड़ा भारी
आइपीएल में चार बार की चैंपियन मुंबई की टीम को लीग चरण में हराना आसान नहीं रहा, लेकिन मंगलवार को सनराइजर्स हैदराबाद के हाथों 10 विकेट की हार से उसकी थोड़ी लय गड़बड़ा गई है. दूसरी तरफ, अपने पहले खिताब की कवायद में लगी दिल्ली ने लगातार चार मैच गंवाने के बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) को छह विकेट से हराकर दूसरा स्थान हासिल किया. इस जीत से निश्चित तौर पर उसका मनोबल बढ़ा होगा. हालांकि, लीग चरण में मुंबई ने दिल्ली को दोनों मैचों में हराया था.

दिल्ली और मुंबई के बीच आइपीएल के इतिहास में अब तक 26 मुकाबले खेले गए हैं. इनमें से मुंबई ने 14 और दिल्ली ने 12 मैच जीते हैं. वहीं इस साल दोनों टीमों के बीच दो मुकाबले हुए और दोनों ही मैचों को रोहित शर्मा की कप्तानी वाली मुंबई ने जीता. ऐसे में दिल्ली की टीम थोड़े दबाव में होगी.
रोहित शर्मा की वापसी से मजबूत हुई मुंबई

READ:  क्यों खराब या कमजोर मास्क पहनने से बेहतर है, आप मास्क पहनें ही नहीं?

मुंबई की टीम के लिए सकारात्मक पहलू उसके कप्तान रोहित शर्मा की वापसी है जो हैमस्टि्रंग के कारण चार मैचों में नहीं खेल पाए थे. यह स्टार सलामी बल्लेबाज हालांकि सनराइजर्स के खिलाफ जल्दी पवेलियन लौट गया था. मौजूदा चैंपियन के पास आक्रामक बल्लेबाज हैं और बेहतरीन गेंदबाज हैं, लेकिन सनराइजर्स के खिलाफ उसके बल्लेबाज नहीं चल पाए थे. उसके गेंदबाजों को भी विकेट नहीं मिल पाया था और महत्वपूर्ण मैच से पहले यह उनके लिए अच्छा सबक रहा कि किसी भी मैच को सहजता से नहीं लेना चाहिए.

मुंबई के बल्लेबाजों ने किया अच्छा प्रदर्शन
मुंबई के शीर्ष क्रम ने अच्छा प्रदर्शन किया है. युवा इशान किशन (428 रन) उसके प्रमुख बल्लेबाज के रूप में उभरे हैं. क्विंटन डिकाक (443 रन) अपनी शानदार फॉर्म जारी रखने के लिए तैयार होंगे. इसके बाद सूर्यकुमार यादव (410 रन) ने अपनी भूमिका बखूबी निभाई है. लंबे शॉट खेलने में माहिर हार्दिक पांड्या (241 रन), कीरोन पोलार्ड (259 रन) और क्रुणाल पांड्या (95) ने जरूरत पड़ने पर अपने कौशल का बखूबी प्रदर्शन किया है. पोलार्ड ने सनराइजर्स के खिलाफ भी चार छक्के लगाए थे.

बोल्ट और बुमराह को दिया था आराम
मुंबई ने अपने मुख्य गेंदबाजों जसप्रीत बुमराह (23 विकेट) और ट्रेंट बोल्ट (20 विकेट) को सनराइजर्स के खिलाफ विश्राम दिया था. इन दोनों ने शुरुआत और डैथ ओवरों में घातक गेंदबाजी की है. राहुल चाहर और क्रुणाल को दिल्ली के खिलाफ मैदान पर उतरने से पहले सनराइजर्स के डेविड वॉर्नर और ऋद्धिमान साहा के हाथों हुई धुनाई को भूलना होगा.

IPL 2020: मुंबई इंडियंस की जीत के लिए अपनी जगह छोड़ेंगे रोहित शर्मा?

READ:  PM मोदी ने किया बालासाहेब विखे पाटिल की आत्मकथा का विमोचन, कहा- उनके कार्य पीढ़ियों को प्रेरित करेंगे

पृथ्वी शॉ और ऋषभ पंत का फॉर्म दिल्ली की चिंता
दूसरी तरफ अजिंक्य रहाणे का फॉर्म में लौटना दिल्ली के लिए अच्छे संकेत हैं. उन्होंने आरसीबी के खिलाफ 60 रन की मैच विजेता पारी खेली थी. शिखर धवन (525) शानदार फॉर्म में हैं लेकिन उन्हें अन्य बल्लेबाजों से सहयोग की दरकार है. दिल्ली की बड़ी चिंता पृथ्वी शॉ और ऋषभ पंत की फॉर्म है जो अभी तक उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे हैं. उनके विदेशी खिलाड़ियों शिमरोन हेटमायर और मार्कस स्टोइनिस को भी महत्वपूर्ण मैच में अपनी फॉर्म दिखानी होगी. कप्तान श्रेयस अय्यर (421) को पारी संवारने का बीड़ा उठाना होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here