सांप्रदायिक अशांति फैलाने, पोर्नोग्राफिक सामग्री, गलत नक्शा लगाने और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और कांग्रेस सांसद शशि थरूर के अकाउंट बंद करने जैसे कई मुद्दों को लेकर ट्विटर को नोटिस मिले हैं.

नई दिल्ली: देश में माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर की मुश्किलें दिन पर दिन बढ़ती ही जा रही हैं. नए आईटी नियमों को लेकर केंद्र सरकार से ट्विटर की तनातनी जारी है. इस बीच देश में सांप्रदायिक अशांति फैलाने, पोर्नोग्राफिक सामग्री, बच्चों से संबंधित अश्लील सामग्री, भारत का गलत नक्शा लगाने और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और कांग्रेस सांसद शशि थरूर के अकाउंट बंद करने जैसे कई मुद्दों को लेकर ट्विटर को नोटिस मिले हैं. साथ ही कई राज्यों में केस भी दर्ज किए गए हैं.

भारत का गलत नक्शा लगाने

देश का गलत मानचित्र लगाने के लिए भारत में ट्विटर के वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में दो प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं. गलत नक्शा के मुद्दे पर प्राथमिकी बुलंदशहर जिले के खुर्जा कोतवाली में दर्ज हुई है. उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जनपद के खुर्जा नगर के रहने वाले वकील प्रवीण भाटी ने खुर्जा कोतवाली नगर थाने में मामला दर्ज कराया है, जिसमें उन्होंने ट्विटर के द्वारा भारत के मानचित्र से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को बाहर दिखाए जाने का जिक्र किया है. प्रवीण भाटी उत्तर प्रदेश बजरंग दल के सह संयोजक भी हैं.

ट्विटर इंडिया के प्रमुख मनीष माहेश्वरी के खिलाफ केस दर्ज

मध्य प्रदेश में भी गलत नक्शा को लेकर ट्विटर पर प्राथमिकी दर्ज की गई है. मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा द्वारा मंगलवार को निर्देश दिए जाने के कुछ ही घंटों बाद यहां पुलिस के साइबर प्रकोष्ठ में ट्विटर पर भारत के नक्शे के साथ छेड़छाड़ कर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग देश दिखाने के मामले में कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी मनीष माहेश्वरी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है.

READ:  राष्ट्रपति ने खारिज की निर्भया केस के दोषी मुकेश की दया याचिका

सांप्रदायिक अशांति फैलाने को लेकर भी केस दर्ज

मनीष माहेश्वरी को हाल में उत्तर प्रदेश की गाजियाबाद पुलिस ने एक बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति पर हमले के सिलसिले में आपत्तिजनक वीडियो पोस्ट करने के लिए समन भेजा था. इस मामले में माहेश्वरी के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई पर रोक लगाने वाले कर्नाटक हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ उत्तर प्रदेश पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है.

हाई कोर्ट ने 24 जून को माहेश्वरी को राहत देते हुए गाजियाबाद पुलिस को उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई नहीं करने को कहा था और यह भी कहा था कि उनसे डिजिटल तरीके से पूछताछ की जा सकती है. गाजियाबाद पुलिस ने माहेश्वरी को समन जारी किया था.

क्यों दर्ज हुआ मामला?

गाजियाबाद पुलिस ने 15 जून को ट्विटर इंक, ट्विटर कम्युनिकेशन्स इंडिया, समाचार पोर्टल द वायर, पत्रकारों मुहम्मद जुबैर और राणा अय्यूब के साथ ही कांग्रेस नेताओं सलमान निजामी, मसकूर उस्मानी, शमा मोहम्मद और लेखिका सबा नकवी के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. उन पर मारपीट का शिकार हुए बुजुर्ग व्यक्ति के वीडियो को सांप्रदायिक अशांति फैलाने के मकसद से प्रसारित करने के सिलसिले में मामला दर्ज किया गया.

संसदीय समिति ने ट्विटर से जवाब तलब किया

ट्विटर एक बार फिर आलोचनाओं के घेरे में आया जब उसने सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद का अकाउंट कुछ समय के लिए अमेरिकी कॉपीराइट कानून का कथित तौर पर उल्लंघन करने के लिए ब्लॉक कर दिया. संसद की एक समिति ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर के ट्विटर अकाउंट अस्थायी रूप से बंद किए जाने के मामले में इस माइक्रो-ब्लॉगिंग इकाई से दो दिनों के भीतर जवाब तलब किया है.

READ:  अब इन 6 सरकारी बैंकों पर लागू नहीं होंगे RBI के नियम, किया लिस्ट से बाहर, अब क्या होगा ग्राहकों का

‘पोर्नोग्राफिक सामग्री’

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने ट्विटर इंडिया के प्रबंध निदेशक को पत्र लिख कर कहा कि ‘पोर्नोग्राफिक और अश्लील सामग्री’ को तत्काल हटाया जाए और इस संदर्भ में उठाए गए कदमों के बारे में ट्विटर 10 दिनों के भीतर जानकारी दे.रेखा शर्मा ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त को भी पत्र लिख कर कहा है कि इस मामले की जांच की जाए और उचित कानूनी कार्रवाई की जाए.

बच्चों से संबंधित अश्लील सामग्री

दिल्ली पुलिस ने माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर को नोटिस जारी कर उसके प्लेटफॉर्म पर बच्चों से संबंधित अश्लील सामग्री प्रसारित किए जाने के खिलाफ उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी मांगी है. ट्विटर को मंगलवार को नोटिस भेजा गया. दिल्ली पुलिस ने इस संबंध में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) की शिकायत पर एक प्राथमिकी दर्ज की थी, जिसमें उसपर आरोप है कि उसने अपने मंच पर बाल पोर्नोग्राफी तक पहुंच की अनुमति दी है.

गौरतलब है कि माइक्रोब्लॉगिंग मंच ने भारत में मध्यस्थ का दर्जा खो दिया है जिसके बाद उपयोगकर्ताओं द्वारा किसी भी गैर कानूनी पोस्ट के लिए वह जिम्मेदार है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here