टोक्यो ओलंपिक में प्रवीण जाधव, अतनु दास और तरुणदीप रॉय की पुरुष टीम से पदक की उम्मीद है. भारत की यह तिकड़ी रैंकिंग दौर में शीर्ष 30 से बाहर रही थी जिससे उन्हें नौवीं वरीयता मिली. अब टीम कजाखस्तान के खिलाफ अपने अभियान का आगाज करेगी.

टोक्यो. भारतीय तीरंदाज सोमवार को एलिमिनेशन दौर के लिए जब मैदान पर उतरेंगे तो वे टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) अभियान में निराशाजनक शुरुआत की भरपाई करना चाहेंगे. प्रवीण जाधव, अतनु दास और तरुणदीप रॉय की पुरुष टीम रैंकिंग दौर में शीर्ष 30 से बाहर रही थी जिससे उन्हें नौवीं वरीयता मिली. भारतीय पुरुष टीम अब कजाखस्तान के खिलाफ शुरुआत करेगी.

ओलंपिक पदार्पण में जाधव तीनों भारतीयों में सबसे आगे 31वें स्थान पर रहे थे. दास 34वें और रॉय 37वें स्थान पर रहे. जाधव और दीपिका कुमारी की जोड़ी मिश्रित युगल स्पर्धा के क्वार्टरफाइनल में बाहर हो गई थी. भारतीय मुख्य कोच मिम बहादुर गुरूंग ने कहा, ‘वह (जाधव) शांत तीरंदाज हैं लेकिन अनुभव की कमी है. उम्मीद है मिक्स्ड टीम से उन्हें कुछ अंदाजा हो गया होगा.

अगर वे पहले दौर की बाधा पार कर लेते हैं तो पुरुष तिकड़ी शीर्ष वरीय कोरिया से भिड़ेगी जिन्हें बाई मिली है. व्यक्तिगत एलिमिनेशन दौर गुरुवार से शुरू होगा जिसमें शीर्ष तीरंदाज दीपिका कुमारी (Deepika Kumari) भरपाई करना चाहेंगी. दीपिका पहले दौर में भूटान की ध्वजवाहक कर्मा के सामने होंगी जो अपने देश से किसी भी खेल में ओलंपिक कोटा हासिल करने वाली पहली खिलाड़ी हैं.

दीपिका के सामने पहली बाधा पार करने के बाद कोरिया की एन सान हो सकती हैं. एन सान रैंकिंग राउंड में 25 साल का रिकॉर्ड तोड़कर शीर्ष पर रही थीं. अतनु दास ने दीपिका कुमारी के साथ 2013 वर्ल्ड कप के मिक्स्ड टीम इवेंट में कांस्य पदक जीता था. उन्होंने उसी साल थाइलैंड में एशियन आर्चर ग्रां प्री में पुरुष रिकर्व टीम का कांस्य पदक भी जीता था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here